Menu

Don't Miss

तंग आ गए हैं कशमकश-ए-ज़िन्दगी से हम !

गुरुदत्त उर्फ़ वसंत शिवशंकर पादुकोन को हिंदी सिनेमा का सबसे स्वप्नदर्शी और समय से आगे का फिल्मकार कहा जाता है। वे वैसे फिल्मकार थे जिनकी तीन फिल्मों - 'प्यासा', 'साहब बीवी गुलाम' और 'कागज़ के फूल' की गिनती विश्व की सौ श्रेष्ठ फिल्मों में होती हैं। ।1944 में प्रभात फिल्म कंपनी में नृत्य निर्देशक और फिर सहायक निदेशक

Read more ...

take-off

  • योगी आदित्यनाथ जी हकीकत देखिए !

    ऑडियो विज्युअल मीडिया ऐसा खिलाड़ी है कि डिटर्जेंट जैसे प्रकृति के दुश्मन जहर को ‘दूध सी सफेदी’ का लालच दिखाकर और शीतल पेय ‘कोला’ जैसे जहर को अमृत बताकर घर-घर बेचता है, पर इनसे सेहत पर पड़ने वाले नुकसान की बात तक नही करता । यही हाल सत्तानशीं होने वाले पीएम या सीएम का भी होता है ।

     
  • तुम्हारा वह अंदाज़ याद रहेगा, ठाकुर !

    हिन्दी सिनेमा के सौ साल से ज्यादा लम्बे इतिहास में जिन अभिनेताओं ने अभिनय को नए आयाम दिए और नई परिभाषाएं गढ़ी, उनमें स्वर्गीय संजीव कुमार उर्फ़ हरिभाई जरीवाला एक प्रमुख नाम है। अपने भावप्रवण चेहरे, विलक्षण संवाद-शैली और अभिनय में विविधता के लिए विख्यात संजीव कुमार एक बेहतरीन अभिनेता ही नहीं, अभिनय के एक स्कूल माने जाते हैं।

     
  • मोदी की इजराइल यात्रा के निहितार्थ !

    फिलिस्तीन और इजरायल के बीच तनाव और संघर्ष के कई दौर मानव इतिहास की सबसे बड़ी त्रासदियों में एक है। उनकी लड़ाई में हज़ारों लोग मारे जा चुके हैं जिनमें ज्यादातर बेगुनाह नागरिक और मासूम बच्चे शामिल हैं। मसला दोनों के अस्तित्व से ज्यादा ऐतिहासिक वजहों से उनके बीच सदियों से पल रही बेपनाह नफरत का है।

     

Recent Tweets

pollution.jpg

Social Issues

Ghalib was an iconoclastic believer

'Bandagi mein bhi woh aazaad-o-khudbeen hain ke hum/Ulte phir aayein dar-e-Ka'aba agar waa na hua' (Even in worship, I'm so free and emancipated that I'll come back if the doors of Ka'aba don't open for me!). Yaas Yagana Changezi, Ghalib's bitterest critic and himself a poet of

Read more ...
 

Asinine wisdom

Human ignorance is vaster than the expanse of the universe. Moreover, the former is ever widening,' opined Sir Carveth Reid in his magnum opus ' Man and his superstitions.' The highly evolved Smriti Irani's latest piece of wisdom to introduce Sanskrit to all IITs is a glaring manifestation of this boundless ignorance.

Read more ...
 

Justification-syndrome

'Man is the most dreadful enemy of poor animals,' opined English rationalist and philosopher Sir John Locke. His observation is all the more spot-on in the ongoing context of Jallikattu charade in Tamil Nadu. First of all, why should Apex Court step in? Can't we human beings understand on our own that

Read more ...
 

Editor's Pick

औरंगज़ेब के महल में क़ैद कविता !

लोक चेतना की राष्ट्रीय मासिक पत्रिका 'सबलोग' (संपादक किशन कालजयी) के जुलाई अंक में मेरे नियमित स्तंभ 'खुला दरवाज़ा' में इस बार पढ़िए मुग़ल सम्राट औरंगज़ेब की बड़ी बेटी और मध्ययुग की बेहतरीन शायरा जेबुन्निसा के व्यक्तित्व और कृतित्व पर मेरा आलेख ! मिर्ज़ा ग़ालिब के पहले जेबुन्निसा ऐसी अकेली शायरा थी जिसके दीवान 'दीवान-ए-मख्फी'

Read more ...
 

पहला प्यार तो पहला प्यार ही होता है न !

आज फेसबुक पर ही एक मित्र ने अफगान स्नो का एक बहुत ही पुराना विज्ञापन पोस्ट किया तो बचपन की बहुत सारी स्मृतियां उभर आईं। अफगान स्नो स्त्रियों के लिए किसी कारखाने में बना देश का पहला सौन्दर्य प्रसाधन था। सफ़ेद-सफ़ेद रुई के फाहों जैसा खुशबूदार फेस क्रीम। 1909 में बम्बई में इसका उत्पादन शुरू किया था सुगन्धित तेल

Read more ...
 

ओह, कैलाश !

चीन द्वारा सिक्किम में नाथूला सीमा पर कैलाश मानसरोवर के यात्रियों को रोकने की घटना विस्तारवादी चीन की दबंग कूटनीति का हिस्सा है। इसे उसकी भावनात्मक ब्लैकमेलिंग भी कहा जा सकता है जिसके माध्यम से वह सिक्किम और भूटान के क्षेत्र से गुजरने वाली अपनी निर्माणाधीन सड़क पर भारत के विरोध को कमज़ोर करना चाहता है। सिक्किम ही क्यों, भारत की आज़ादी

Read more ...
 
Go to top