Menu

Editor Pick

 "I wrote poems in my corner of the Brooks Street station. I sent them to two editors who rejected them right off. I read those letters of rejection years later and I agreed with those editors". - Carl Sandburg

 

 

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर हिंदी की छायावादोत्तर कवियों की पहली पीढ़ी के ऐसे कवि थे जिनकी कविताओ में एक ओर विद्रोह, आक्रोश और क्रान्ति का तेज है तो दूसरी ओर कोमल श्रृंगारिक भावनाओं और प्रेम की इतनी कोमल अभिव्यक्ति जिसकी बारीकी पढ़ने वालों को सहसा स्तब्ध कर देती है। उन्होंने 'कुरुक्षेत्र', 'हुंकार', 'रश्मिरथी', 'परशुराम की प्रतीक्षा' जैसी काव्य रचनाओं

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

As technology intrude your classroom, the very atmosphere of teaching become more dynamic.  The concept of education should be combined with technology. It would be the ultimate aim of technology or there is no use for invention.  Students will be happier, more curious to see how the teachers

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

देश की सरकार ने देश की रेल को कत्लगाह बना कर रख दिया है। सरकार के तीन साल के कार्यकाल में डेढ़ दर्ज़न से ज्यादा गंभीर रेल दुर्घटनाओं में तीन सौ से ज्यादा लोग मारे गए और हज़ारों लोग घायल हुए हैं। छोटी-मोटी दुर्घटनाओं की संख्या सैकड़ों में पहुंचती हैं। इनमें से ज्यादा दुर्घटनाएं रेल के अफसरों और कर्मचारियों की लापरवाही से घटी हैं।

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

It is indeed quite illustrious that, another most prestigious feather of pride has already been included in “Indian Sports History”. Our World Taekwondo Legend Respected Master Pradipta Kumar Roy, World Taekwondo Pioneer Respected Master Ruma Roy Chowdhury and former International Champion Master Nilava Biswas

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

हवा, पानी और भोजन आदमी की जिंदगी की बुनियादी जरूरत हैं। अगर इनमें ही मिलावट होगी, तो जनता कैसे जियेगी? खाद्यान में मिलावट के नियम कितने भी सख्त हों, जब तक उनको ठीक से लागू नहीं किया जायेगा, इस समस्या का हल नहीं निकल सकता। आज मिलावट का कहर सबसे ज्यादा हमारी रोजमर्रा की जरूरत की चीजों पर ही पड़ रहा है।

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

जीएसटी ने रंग दिखाना शुरू कर दिया है। इसके लिए छोटे उद्योग और छोटे व्यापार करने वालों का बड़ा तबका रजिस्टेशन और काम धंधे का हिसाब किताब रखने और हर महीने सरकार को जानकारी देने के लिए कागज पत्तर तैयार करने में लग गया है। इसका तो खैर पहले से अंदाजा था। लेकिन दसियों टैक्स खत्म करके एक टैक्स करने का जो एक फायदा गिनाया गया था कि

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

Introduction
We all know that Gokulashtami is celebrated all over India –birth  anniversary of Lord Krishna in the month of Aug-Sept every year with great fervor and enthusiasm.
 The DAHI HANDI is celebrated in as child acts of Lord Krishna who used to form human

पत्थर से दिल लगाया और दिल पे चोट खाई !

यह संवेदनहीनता की इन्तेहा ही थी।बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में छेड़खानी की लगातार बढती घटनाओं और इस मुद्दे पर विश्वविद्यालय प्रशासन की मूढ़ता और उदासीनता से परेशान विश्वविद्यालय की सैकड़ों लडकियां अपनी फ़रियाद सुनाने के लिए विश्वविद्यालय के गेट पर खड़ी दो दिनों के बनारस दौरे पर गए अपने सांसद और देश के प्रधानमंत्री मोदी की बाट जोहती रही।

Read more ...
 

MICHAEL JACKSON A PRODIGY

Michael Jackson was always a mystery to his fans and critics.  MJ had an enigmatic personality; his death was a shrouded mystery.  He gave us a music which has no parallel Chandra till the date he was practicing music till 48 hours before he die. The last decade of his life became murky for all the hearsay and rumors.

Read more ...
 

गौरी लंकेश के बहाने

 

दुनिया की कोई भी विचारधारा या कोई भी धर्म एक इंसानी जान से ज्यादा कीमती नहीं हो सकते,लेकिन दुर्भाग्य से दुनिया में सबसे ज्यादा इंसानी हत्याएं धर्म या विचारधारा के नाम पर ही हुई है। आधुनिक विश्व में विचारधारा के नाम पर क़त्लेआम का सबसे वीभत्स रूप वामपंथ ने दिखाया है।

Read more ...
 
Go to top