Menu

Don't Miss

 "The good news is that economists are intelligent, engaging and often charming folks. The bad news is their work is often of little use to investors". - Barry Ritholtz

 

 

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

*Palghar (Maharashtra) Loksabha Election* -

Bahujan Vikas Aaghadi (2.22L) + Communists (73k) + Congress (47k) = 3.42 Lakhs

#Defeat of Sena_BJP

In UP - If Samajawadi + BSP + Congress fight together - BJP will be in risk of loosing deposits

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

जिस ईश्वर और जिन देवी-देवताओं को हमने कभी देखा-जाना नहीं हैं, उनके पीछे हम सब पागल है। उन काल्पनिक हस्तियों के मंदिरों, इबादतगाहों और स्तुतियों ने हमारे जीवन का ज्यादातर हिस्सा घेर रखा है। जो जीवित देवी-देवता हमारी आंखों के सामने अनंत काल से हमारे लिए सब कुछ लुटाते रहे हैं, यदि हमने उनकी भी इतनी ही चिंता की होती तो हमारी यह दुनिया आज स्वर्ग से भी सुन्दर होती।

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

पंजाब नेशनल बैंक ही नहीं, अभी और भी कई बैंक इसकी चपेट में आने वाले हैं। उल्लेखनीय है कि पिछले हफ्ते के 3 बड़े घोटालों के बीच एक व्यक्ति का नाम हर जगह उभर कर आ रहा है और वो है जैट ऐयरवेज़ के मालिक नरेश गोयल का। जैट ऐयरवेज़ की हवाई उड़ानों पर नीरव मोदी के विज्ञापन अभी तक प्रसारित हो रहे हैं। इन दोनों कंपनियों के बीच आर्थिक लेनदेन का जो कारोबार चल रहा है,

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

I didn't understand the recent row over offering namaaz in public spaces in Haryana and elsewhere in the country? What's wrong if the Muslims offering namaaz on road aren't stopped to do so? Only in the last two decades or so, this sanctimonious displaying mentality of the followers of all man-made faiths has become disturbingly obvious.

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

हमेशा की तरह 'महिला दिवस' की आहट के साथ एक बार फिर स्त्री-शक्ति की स्तुतियों का सिलसिला शुरू हो गया है। हर तरफ भाषण-प्रवचन हैं,यशोगान हैं, कविताई हैं, संकल्प हैं, बड़ी-बड़ी बातें हैं। आप स्त्रियां मानें या न मानें, यह सब आपको बेवकूफ़ बनाने के सदियों पुराने नुस्खे है। आपने अपनी छवि ऐसी बना रखी हैं कि कोई भी आपकी प्रशंसा कर आपको अपने सांचे में ढाल ले जा सकता है।

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

इस देश की सरकार और प्रधानमंत्री की नीतियों से हमारी असहमति अपनी जगह पर सही है, लेकिन कल लोकतंत्र के मंदिर संसद में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर प्रधानमंत्री के वक्तव्य के दौरान कांग्रेस सांसद रेणुका चौधरी का बेहूदा अट्टहास बेहद शर्मनाक था। उससे ज्यादा शर्मनाक था देश के प्रधानमंत्री का उनकी हंसी की तुलना रामायण सीरियल के किसी राक्षस से करना.!

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

बलात्कारी राम रहीम के बाद आज बलात्कारी आसाराम का हश्र देखकर किसी को भी बहुत खुश होने की ज़रुरत नहीं है। ये लोग व्यक्ति नहीं, हम पुरुषों के भीतर की दमित इच्छाओं और यौन विकृतियों की बेशर्म अभिव्यक्ति मात्र हैं। राम रहीम और आसाराम थोड़े-बहुत प्रायः सभी पुरुषों के भीतर मौजूद हैं। यह और बात है कि पैसों, प्रभुत्व, साधनों और अवसर के अभाव में ज्यादातर लोगों के

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

मेरी चंदन की लकड़ियों, तेरी शीतलता, गंध और पवित्रता की क़द्र इस देश में कभी भी नहीं हुई। कभी ढोंगी बाबाओं ने तुझे इस्तेमाल किया तो कभी वीरप्पन जैसे तस्करों ने तुझे लूटा। यहां के जंगलों में भी तुझे अपना प्यार कहां मिला ? प्यार के नाम पर सदियों से छोटे-मोटे भुजंग ही लिपटते-चिपटते रहे तुझसे। तू इससे कुछ ज्यादा की हकदार थी। चल छोड़ आता हूं तुझे चीन की सीमा के उस पार !

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

इतने शोर शराबे के बाद पद्मावत फिल्म देखी, तो तबियत बाग-बाग हो गई। राजपूतों की संस्कृति, उनके संस्कार, उनका वैभव, उनके सिद्धांत, उनकी मान-मर्यादा, हर बात का इतना भव्य प्रर्दशन संजय लीला भंसाली ने किया है कि देखने वाला देखता ही रह जाता है। समझ में नहीं आता कि किन लोगों की मूर्खता के कारण इस पर इतना बवाल मचा।

Go to top